क्या एंटीबॉडी से दोबारा कोरोना नहीं होगा ?

एंटीबॉडी

दिल्ली एंटीबॉडी सर्वे पर एक रिपोर्ट

नई दिल्ली: प्रतिदिन भारत में कोरोना को लेकर नए नए आंकड़े सामने आ रहे हैं। ताज़ा आंकड़ों कि माने तो भारत में कोरोना संक्रमण मरीजों कि संख्या 29 लाख के पार पहुंच गई है। बात अगर राजधानी दिल्ली की करें तो दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने जो दूसरी सीरो सर्वे रिपोर्ट जारी की है उसके मुताबिक़ दिल्ली में १०० में से २९ लोगों के शरीर में कोरोना वायरस के अंश मिले हैं लेकिन वे सभी एंटीबॉडी हो चुके हैं। यह रिपोर्ट यह दावा करती है की दिल्ली के २९ प्रतिशत लोगों का शरीर एंटीबाडी हो चूका है।

जुलाई में हुए पहला सीरो सर्वे की माने तो दिल्ली की आबादी का एक चौथाई हिस्सा कोरोना संक्रमित हो चूका है। इस रिपोर्ट में जो आंकड़ें सामने आये उसके मुताबिक़ 21,387 सैंपल लिए गए थे। जिसमें 23.48 फ़ीसदी लोगों एंटीबॉडी पाई गई थी यानि उनको कोरोना हो चुका था लेकिन शरीर ने अपने को उसके लिए विकसित कर लिया। बीते गुरुवार को हुई एक प्रेस वार्ता में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि अगस्त के पहले सप्ताह में जो सीरो सर्वे रिपोर्ट सामने आई उसके मुताबिक़ 29.1 प्रतिशत लोगों का शरीर एंटीबॉडी हो चूका है। यह आंकड़े बताते हैं कि दो करोड़ की आबादी वाली दिल्ली शहर में लगभग साठ लाख लोग कोरोना संक्रमण हुआ था और वे ठीक हो चुके हैं.

इस खबर को भी पढ़ें: दिल्ली भलस्वा डेरी में सफाई पर एक रिपोर्ट

क्या एंटीबॉडी से दोबारा कोरोना हो सकता है?

इस पर BBC को दिए एक इंटरव्यू मुताबिक़ ICMR की डॉ. निवेदिता गुप्ता (एपिडेमियोलॉजी एंड कम्यूनिकेबल डिज़ीज़, डिपार्टमेंट) का कहना है कि अभी तक ऐसी कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है कि एंटीबॉडी दोबारा संक्रमित नहीं सकती। लेकिन एंटीबॉडी यह जरूर साबित करती है कि उन्होंने अपना एक इम्यून विकसित हो चूका है।

सीरो सर्वे की रिपोर्ट से यह पता चलता है की “उन्हें कोरोना हुआ था और अभी ठीक हैं। यह दोबारा हो सकता है या नहीं यह कहा नहीं जा सकता”

 

ताज़ातरीन ख़बरों के लिए क्लिक करें WATCHHEADLINE पर

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here