Pradeep Gyavali: भारत और नेपाल के रिश्तों में कड़वाहट

भारत और नेपाल

भारत और नेपाल के रिश्तों का सच

नई दिल्ली: पिछले कुछ समय से भारत और नेपाल के रिश्तों में कड़वाहट नज़र आ रही है। पहले सड़क निर्माण को लेकर विवाद हुआ फिर नक़्शे को लेकर और अब नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ज्ञावली ने एक विवादस्पद बयान दे डाला। BBC को दिए एक इंटरव्यू में विदेश मंत्री ने कहा है कि, ‘नेपाल और भारत में भाषा, संस्कृति, जातीय धर्म और दोनों देशों के त्योहारों में भी बहुत समानताएं है। यह बहुत बड़ी वजह है की दोनों देशों में सामाजिक और व्यव्हारिक रिश्ते हमेशा से ही मधुर बने हुए हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि दोनों हिन्दू आबादी वाले देश हैं भारत में हिन्दी भाषा का सामंजस्य है और हमारे यहाँ नेपाली भाषा का। इसके अतिरिक्त कई ऐसी क्षेत्रीय भाषाएँ है जैसे मैथिली, भोजपुरी, मधेशी आदि जो दोनों देशों में बोली जाती है। नेपाल और भारत के सीमावर्ती क्षेत्रों में रोटी और बेटी का रिश्ता भी है।

बातचीत में विदेश मंत्री ने कहा कि, ‘ऐसा पहली बार नहीं हुआ कि जब नेपाल और भारत के रिश्तों में दिक्कतें आई हो, इससे पहले कई बार ऐसा हुआ है। लेकिन दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक ताना बाना कुछ इस तरह का है कि जिससे संबंधों पहले से ज़यादा गर्मजोशी बनी रहेगी। लेकिन मेरा मानना है कि धर्म और संस्कृति का सम्बन्ध किसी व्यक्ति विशेष से जुड़ा है इसे देश से ऊपर नहीं होना चाहिए।

 

ताज़ातरीन कब्रों के लिए क्लिक करें Watchheadline पर

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here